Sunday, September 16, 2012

हाल -ऐ -दिल  हमने  सुनाना  छोड़  दिया ,
अपने  ग़मों  की  दास्तां  जुबां  पर  लाना  छोड़  दिया ,
हम  वोह  फौलाद -ऐ -जिगर  रखते  हैं  जो  बिखर  सकता  नहीं  कभी ,
शायद  इसलिए   लोगों  ने  हमें  आज़माना  छोड़  दिया ...

No comments:

Post a Comment