Thursday, January 17, 2013

ग़ैरों से वफ़ा की उम्मीद मैं क्या रखूं ऐ ख़ुदा,
वोह मेरा अपना ही था जो मुझे छोड़ गया...

No comments:

Post a Comment